• महिला दिवस: फिल्म 'अनसुनी आवाजें'

    संपादकीय

    घरेलू कामगार यूनियन ने घरेलू कामगारों के जीवन एवं काम की परिस्थितियों पर बनी फि़ल्म ‘अनसुनी आवाज़ें’ दिल्ली की शानदार और चमचमाती कोठियों में बसनेवालों की ज़िन्दगी आसान बनानेवालों की कहानी कहती है। फि़ल्म बताती है कि देश की एक बड़ी आबादी दिल्ली जैसे महानगरों में अपनी मेहनत को कौड़ियों के मोल बेचने को मजबूर है और गुमनामी में जी रही है। फि़ल्म यह भी बताती है कि घरेलू कामगारों की यह आबादी 10 घण्टे खटने के बाद भी मज़दूर का दर्जा पाने से वंचित है। ऐसा इसलिए है कि इनके लिए अभी तक कोई क़ानून नहीं है। फि़ल्म इस...

  • र​हने लायक देशों में भारत की स्थिति हुई बेहतर

    संपादकीय

    यह सोचकर थोड़ा संतोष किया जा सकता है कि दुनियाभर में रहने लायक सबसे अच्छे मुल्कों की सूची में हमारी स्थिति थोड़ी सुधरी है, लेकिन महिलाओं की हैसियत और बच्चों के लालन-पालन के मामले में दुनिया की राय हमारे बारे में आज भी बेहतर नहीं है। यूएस न्यूज, वर्ल्ड रिपोर्ट और वॉर्टन स्कूल द्वारा कराए गए सर्वेक्षण के अनुसार, दुनिया में रहने लायक 73 देशों की सूची में भारत 25वें स्थान पर है जबकि पिछले साल हमें 27वीं रैंक मिली थी। यह रैंकिंग विभिन्न देशों को लेकर विश्वस्तर पर बनी धारणा के आधार पर की जाती है। व्यापार, निवेश, पर्यटन...

  • विश्वयुद्ध से इतर ईरान—अमेरिका के बीच सायबर युद्ध का खतरा!

    संपादकीय

    साल की शुरुआत में जब अमेरिकी ड्रोन ने ईरान के सेना प्रमुख कासिम सुलेमानी पर निशाना साधा था, तब ये दोनों ही देश दो अलग-अलग मानसिकता में पहुंच गए थे। अच्छी बात यह है कि मामला अब शांति की ओर बढ़ता दिख रहा है। ईरान में उन्माद था और हर ओर बदला लेने की शब्दावली सुनाई दे रही थी। दूसरी ओर, अमेरिका के रक्षा विशेषज्ञों में एक नए किस्म का डर था। हालांकि वे आश्वस्त थे कि सैनिक ताकत में ईरान उनके सामने कहीं नहीं ठहरेगा।

    ईरान के पास परमाणु बम है, ऐसा पक्के तौर पर कोई नहीं कह रहा...

  • तेजी से विकास में नाम महानगरों का नहीं, छोटे शहरों का!

    संपादकीय

    भारत के तीन शहर दुनिया में सबसे तेजी से विकास कर रहे शहरों की टॉप-10 लिस्ट में शामिल हैं। इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि ये शहर दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जैसे महानगर नहीं बल्कि केरल के बेहद छोटे शहर हैं, जो चर्चा में भी बहुत कम आते हैं। ये छोटे शहर हैं मलप्पुरम, कोझिकोड और कोल्लम। ब्रिटिश मल्टिनैशनल मीडिया कंपनी ‘द इकोनॉमिस्ट ग्रुप’ से जुड़े ‘इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट’ (ईआईयू) के सर्वे के अनुसार तेजी से विकास करने वाले शहरों में मलप्पुरम दुनिया में पहले नंबर पर है। यहां 2015 से 2020 के बीच 44.1 फीसदी बदलाव आया। कोझिकोड...

  • इंटरनेट अभिव्यक्ति की आजादी का एक अंग!

    संपादकीय

    देश की सुप्रीम अदालत ने जिस तरह इंटरनेट को अभिव्यक्ति की आजादी का एक अंग ठहराया है, वह कई तरह से स्वागत योग्य है। इसलिए भी कि अब प्रशासन का मनमाने ढंग से हर मौके-बेमौके पर इंटरनेट सेवा को बाधित करने का अधिकार खत्म होगा और इसलिए भी कि इससे मूल अधिकारों को नई तकनीक या नए दौर की जरूरतों से जोड़कर देखने का चलन शुरू होगा। फैसला भले ही एक क्षेत्र विशेष के संदर्भ में हुआ हो, लेकिन इसका प्रभाव अखिल भारतीय होगा और लंबे समय तक याद किया जाएगा। खासकर यह संयुक्त राष्ट्र की उस सलाह के भी...

  • सीएए याचिकाएं: सरकार के सामने असमंजस

    संपादकीय

    नागरिकता संशोधन कानून पर सर्वोच्च न्यायालय सहित देश के कई उच्च न्यायालयों में दायर याचिकाओं को लेकर केन्द्र सरकार की चिंता जायज ही कही जाएगी कि एक साथ कई जगह मामला चलने से आने वाले फैसलों में अंतर्विरोध हो सकता है। इस मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार ने प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे की अगुवाई वाली पीठ के सामने यह याचिका पेश की है कि इन सभी मामलों की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में एक साथ हो। केन्द्र का यह कानून कई स्तरों पर समाज को मथ रहा है। इतने दिन बीत जाने के बाद भी न तो इसका विरोध करने वालों...

  • शिक्षा संस्थानों में बढ़ी हुई फीस पर बवाल!

    संपादकीय

    जेएनयू का विवाद बढ़ी हुई फीस को लेकर ही शुरू हुआ था, जो हाल ही उसके कैंपस में हिंसक झड़पों के साथ और भी उग्र हो गया है। पिछले कुछ समय से पूरे देश में कई विश्वविद्यालयों के छात्र फीसवृद्धि को लेकर उत्तेजित हैं। पड़ोसी देश पाकिस्तान तक से इसी प्रकार के विरोध-प्रदर्शनों की खबरें आ रही हैं। शासक वर्ग की ओर से इसके प्रति या तो उदासीनता दिखाई जा रही है या फिर इसे राजनीतिक रंग देकर खारिज करने की कोशिश की जा रही है। विपक्षी दल भी इस मुद्दे पर ज्यादा कुछ नहीं कर रहे हैं और न...

  • मुहाने पर तीसरा विश्वयुद्ध!

    संपादकीय

    अमेरिका ने एक झटके में पश्चिम एशिया को युद्ध की ओर धकेल दिया है। किसी भी तरह का सैनिक संघर्ष अगर हुआ, तो बात सिर्फ अमेरिका और ईरान तक सीमित नहीं रहेगी, इसका ताप पूरी दुनिया को ही कई दाग देगा। किसी देश के सैन्य प्रमुख को हमला करके मार देने का अर्थ सिर्फ एक ही होता है, उस देश के खिलाफ युद्ध का एलान। जैसे ही यह खबर आई कि अमेरिकी ड्रोन ने इस्लामिक रिवॉल्यूशनरी गार्ड कोर के प्रमुख कासिम सुलेमानी को इराक के बगदाद हवाई अड्डे के पास मार गिराया, विश्व बाजार में पेट्रोलियम के भाव एकाएक बढ़...

  • अमेरिकी आपरेशन का शिकार "ISIS आतंकी बगदादी "

    संपादकीय

    आतंकी संगठन ISIS का सरगना अबु बकर अल बगदादी के खिलाफ अमेरिका ने ऑपरेशन चलाया है, जिसमें बगदादी को निशाना बनाया गया है। बताया जा रहा है कि बगदादी अमेरिका का टारगेट बन गया है। इस संबंध में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी जानकारी दी है।

    अपने बयान में डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि अभी कुछ बहुत बड़ा हुआ है। ट्रंप का यह ट्वीट बगदादी के खिलाफ चलाए गए ऑपरेशन से जोड़कर देखा जा रहा है। ये भी कहा जा रहा है इस संबंध में ट्रंप जल्द ही बड़ा ऐलान कर सकते हैं। बता दें...

  • पाकिस्तान पीएम के बदले 'सुर'

    संपादकीय

    भारत के खिलाफ एकबार फ‍िर पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने जहर उगला है। उन्‍होंने रविवार को कहा कि पाकिस्तान कश्मीर मसले को कूटनीतिक और राजनीतिक रूप से किसी भी स्तर तक ले जाएगा। इमरान ने यह भी कहा कि कश्‍मीर में भारतीय सुरक्षा बलों के खिलाफ जेहाद करने का आह्वान और सशस्त्र लड़ाई को मदद इस्लामाबाद के हितों के खिलाफ है। हालांकि, इससे पहले वह भारत के खिलाफ परमाणु युद्ध की धमकियां दे चुके हैं।

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान टेलीविजन (पीटीवी) चैनल पर प्रसारित वीडियो संदेश में इमरान खान ने कहा कि कुछ तत्व कश्मीर में जेहाद और हथियारों...

Back to Top